एक कंजूस आदमी के घर मेहमान आया

एक कंजूस आदमी के घर मेहमान आया.
कंजूस – “भाईसाहब, ठंडा लेंगे या गरम ?”
मेहमान – “ठंडा…”
कंजूस – “जूस या कोल्डड्रिंक ?”
मेहमान – “कोल्ड ड्रिंक ले लूँगा .”
कंजूस – “स्टील के गिलास में लेंगे या कांच के गिलास में
… ?”
मेहमान – “कांच के गिलास में ले आओ …”
कंजूस – “प्लेन या डिजाइन वाला ?”
मेहमान (परेशान होते हुए ) – “अरे यार, डिजाइन वाले में
ही ले आओ … !”
कंजूस – “ओके, कौनसी डिजाइन पसंद है ?
लाइनों वाली या फूलों वाली ?”
मेहमान – “फूलों वाली.”
कंजूस – “कौन से फूल ? गुलाब के या चमेली के ?”
मेहमान – “गुलाब के.”

कंजूस (अपनी बीवी से) – “लाजो, ज़रा देख तो गुलाब
के फूलों की डिजाइन वाला गिलास अपने घर में है
या नहीं ?”
बीवी – “नहीं है जी …”
कंजूस – “ओ त्तेरी ! नहीं है ?
…. चल फिर कोल्ड ड्रिंक रहने दे …
भाईसाहब को मजा नहीं आएगा….

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Atul Palandurkar

%d bloggers like this: