जीत किसके लिए, हार किसके लिए

जीत किसके लिए, हार किसके लिए !
ज़िंदगीभर ये तकरार किसके लिए !
जो भी आया है वो जायेगा एक दिन !
फिर ये इतना अहंकार किसके लिए !
ए बुरे वक़्त ! ज़रा अदब से पेश आ !!
वक़्त ही कितना लगता है ! वक़्त बदलने में !!
मिली थी जिन्दगी, किसी के काम आने के लिए…
पर वक्त बित रहा है, कागज के टुकड़े कमाने के लिए !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Atul Palandurkar

%d bloggers like this: