तिळगुळ घ्या गोडगोड बोला

बरं !!!! मी काय म्हणतो, ,
,
,ते
,
,
,
,”तिळगुळ घ्या गोडगोड बोला” वाले मॅसेज चालु करायचे का ???? 😃😃😃

आजकाल तू उदास असतेस

😀 *कडक जोक:-*😂

*नवरा* – आजकाल तू उदास असतेस, आजारी आहेस असं वाटतं. डॉक्टरांकडे जाऊन ये.

*बायको* – जाऊन आले… ते म्हणाले, रक्तामध्ये दिवाळी आली आहे “शॉपिंगची कमी” आहे म्हणे.
दोन-चार मॉलमध्ये जाऊन या, खरेदी करा. वातावरण बदललं की आपोआप ठीक व्हाल.😜

😛😆😍😂😂

कोजागिरी निमित्त कार्यक्रम आयोजित केला आहे

सर्वांना कळविण्यास आनंद वाटतो की, कोजागिरी निमित्त आमच्या घरी पावभाजी व दुग्धपानाचा कार्यक्रम आज रात्री आयोजित केला आहे..!!!

तरी सगळ्यांना विनंती आहे की, आपण सर्वांनी सहपरिवार….

आप-आपल्या घरी असाच काहीसा कार्यक्रम करून कोजागिरी साजरी करावी…!!

हँपी पित्रुपक्ष

जो पर्यंत आयुष्य आहे ….. रोज डी पी बदला!

नंतर तर एकाच फोटोमध्ये लटकुन रहायचे आहे 😂

तोही पोरानी लावला तर!
😜

*हँपी पित्रुपक्ष*

गणेश चतुर्थीच्या हार्दीक शुभेच्छा

“सर्वांना गणेश चतुर्थीच्या हार्दीक शुभेच्छा.
तुमच्या मनातील सर्व मनोकामना पूर्ण होवोत,
सर्वांना सुख, समृध्दी, ऎश्वर्य,शांती,आरोग्य लाभो
हीच बाप्पाच्या चरणी प्रार्थना. ”
गणपती बाप्पा मोरया , मंगलमुर्ती मोरया !!!

श्रीराम जय राम जय जय राम

*||श्री राम समर्थ||*

कितीक सरले कितीक उरले,

आयुष्याला मोजु नका.

मस्त जगूया आनंदाने,

मंत्र मुळी हा सोडू नका.

*श्रीराम जय राम जय जय राम !!*

नाही पटले काही जरीही

उगाच क्रोधीत होऊ नका.

व्यक्ती तितक्या विचारधारा,

मंत्र मुळी हा सोडू नका.

*श्रीराम जय राम जय जय राम !!*

योग्य अयोग्य चूक बरोबर,

मोजमाप हे लावू नका.

विवेक बुद्धि प्रत्येकाला,

मंत्र मुळी हा सोडू नका.

*श्रीराम जय राम जय जय राम !!*

सुख दुःख हे पुण्य पाप ते,

दैव भोग हे तोलू नका.

कर्म फळाच्या सिद्धांताचा,

मंत्र मुळी हा सोडू नका.

*श्रीराम जय राम जय जय राम !!*

खाण्या बाबत हट्टी आग्रही,

कधी कुठेही राहू नका.

खाऊ मोजके राहू निरोगी,

मंत्र मुळी हा सोडू नका.

*श्रीराम जय राम जय जय राम !!*

संस्कारांचे मोती उधळले,

पैसा शिल्लक ठेवू नका.

पैसा करतो आपले परके,

मंत्र मुळी हा सोडू नका.

*श्रीराम जय राम जय जय राम !!*!*

मत आपले,विचार,सल्ला,

विचारल्या विण देऊ नका.

मान आपला आपण राखा,

मंत्र मुळी हा सोडू नका.

*श्रीराम जय राम जय जय राम !!*

नित्यच पाळा वेळा,सर्व वेळी अवेळी जागू नका .

पैश्याहुनही अमूल्य वेळा,

मंत्र मुळी हा सोडू नका.

*श्रीराम जय राम जय जय राम !!*

नाही बोलले कुणी तरीही,

वाईट वाटुन घेऊ नका.

मौन साधते सर्वार्थाला,

मंत्र मुळी हा सोडू नका.

*श्रीराम जय राम जय जय राम !!*

जगलो केवळ इतरांसाठी,

कुठेच आता गुंतू नका.

फक्त जगुया आपल्यासाठी,

मंत्र मुळी हा सोडू नका.

*श्रीराम जय राम जय जय राम !!* !!*

जाणा कारण या जन्माचे,

वेळ व्यर्थ हा घालू नका.

श्वासोश्वासी नामच घ्यावे,

मंत्र मुळी हा सोडू नका.

*श्रीराम जय राम जय जय राम !!*

हिंदूनुतनवर्षाभिनंदन

ॐ ब्रह्मध्वज नमस्तेsस्तु सर्वाभीष्ट फलप्रद !

प्राप्तेsस्मिन्वत्सरे नित्यं मद्गृहे मंगलं कुरू !!

। । ब्रह्मध्वजाय नम:।।

हिंदूनुतनवर्षाभिनंदन !

चैत्र शुध्द प्रतिपदा , गुढीपाडवा

आपणांस आणि आपल्या कुटुंबियांस हे नवीन वर्ष सुखाचे, समृद्धीचे, आणि भरभराटीचे जावो ! नवीन वर्षाच्या हार्दिक शुभेच्छा !

अयं होलीमहोत्सवः

अयं होलीमहोत्सवः भवत्कृते भवत्परिवारकृते च क्षेमस्थैर्य आयुः आरोग्य ऐश्वर्य अभिवृद्घिकारकः भवतु अपि च श्रीसद्गुरुकृपाप्रसादेन सकलदुःखनिवृत्तिः आध्यात्मिक प्रगतिः श्रीभगवत्प्राप्तिः च भवतु इति||

।। होलिकाया: हार्दिक शुभाशयाः ।।

॥ शुभ होली

होळीच्या पवित्र अग्निमध्ये

होळीच्या पवित्र अग्निमध्ये निराशा, दारिद्र, आळस यांचे दहन होवो आणि आपल्या सर्वांच्या आयुष्यात आनंद,सुख, आरोग्य आणि शांती नांदो!

*_होळीच्या आणि रंगपंचमीच्या आपणास व कुटुंबियांस हार्दिक शुभेच्छा…!*

कल पोहा बनाते टाइम

कल पोहा बनाते टाइम

उसपर हरा धनिया डाला तो मालूम है क्या हुआ???

क्या हुआ ?

पोहा कड़ाई में डांस करने लगा

और बोला

“हम पे ये किसने हरा रंग डाला

मार डाला, हाए मार डाला !!!!!”

HAPPY HOLI IN ADVANCE

जो अमृत पीते हैं उन्हें देव कहते हैं

*जो अमृत पीते हैं उन्हें देव कहते हैं,*

*और जो विष पीते हैं उन्हें देवों के देव “महादेव” कहते हैं … !!!*

*♨ ॐ नमः शिवाय ♨*

,-“””-,

| == |

| @ |

(‘‘‘””””””””””)===,

‘>——<‘‘‘‘‘‘‘

*भोलेनाथ आपकी सारी मनोकामनाएं पूर्ण करे…..*

*⛳ॐ नमः शिवाय⛳*

*🙏 आप को और आप के परिवार को महाशिव रात्रि की हार्दिक हार्दिक बधाई एवं 🙏🏻शुभकामनाए🙏👏🙏

मैं शिव हूँ

विभत्स हूँ… विभोर हूँ…

मैं समाधी में ही चूर हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

घनघोर अँधेरा ओढ़ के…

मैं जन जीवन से दूर हूँ…

श्मशान में हूँ नाचता…

मैं मृत्यु का ग़ुरूर हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

साम – दाम तुम्हीं रखो…

मैं दंड में सम्पूर्ण हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

चीर आया चरम में…

मार आया “मैं” को मैं…

“मैं” , “मैं” नहीं…

”मैं” भय नहीं…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

जो सिर्फ तू है सोचता…

केवल वो मैं नहीं…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

मैं काल का कपाल हूँ…

मैं मूल की चिंघाड़ हूँ…

मैं मग्न…मैं चिर मग्न हूँ…

मैं एकांत में उजाड़ हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

मैं आग हूँ…

मैं राख हूँ…

मैं पवित्र राष हूँ…

मैं पंख हूँ…

मैं श्वाश हूँ…

मैं ही हाड़ माँस हूँ…

मैं ही आदि अनन्त हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

मुझमें कोई छल नहीं…

तेरा कोई कल नहीं…

मौत के ही गर्भ में…ज़िंदगी के पास हूँ…

अंधकार का आकार हूँ…

प्रकाश का मैं प्रकार हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

मैं कल नहीं मैं काल हूँ…

वैकुण्ठ या पाताल नहीं…

मैं मोक्ष का भी सार हूँ…

मैं पवित्र रोष हूँ…

मैं ही तो अघोर हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

Mahashivratri blessings

Mahashivratri blessings to you and your family. May the almighty Lord Shiva & Parvati bless you all with good things, perfect love & health.

#mahashivratri #mahashivaratri #mahashivrati #mahashivarathri #mahashivratree #mahashivratri2018 #mahashivratri🙏

कैलासराणा शिवचंद्रमौळी

*|| कैलासराणा शिवचंद्रमौळी,*

*फणींद्रमाथा मुकूटी झळाळी,*

*कारुण्यसिंधू भवदुःख हारी,*

*तुझ वीण शंभो मज कोण तारी ||*

*ॐ नमः शिवाय*

” *महाशिवरात्रीच्या मनस्वी शुभेच्छा* “

*शुभ प्रभात*

१४ फेब्रुवारीची शाॅपींग करतोय

बायको : अहो तुम्ही कुठे आहात ?

नवरा : कुठे म्हणजे १४ फेब्रुवारीची शाॅपींग करतोय ना.

बायको : अय्या खरंच , मग माझ्यासाठी कायकाय घेतलंय

नवरा : साबुदाना आणि भगर!

महाशिवरात्रि नाही का ग

झुकवूनि मस्तक तुझ्या पाऊली

*झुकवूनि मस्तक तुझ्या पाऊली*

*नाम घेतो तुझे गजानन माऊली*

*वरदहस्त लाभो तुझा सकलासी…*

*सुखे ठेवा सदैव आम्हा लेकरासी..*

*॥ॐगण गण गणांत बोते॥*

बसंत पंचमी

[]◆बसंत पंचमी का महत्व◆[]

★विशेष रूप से सभी विद्यार्थयों को इस दिन माता सरस्वती जी की पूजा अर्चना अवश्य करनी चाहिए, कल बसंत पंचमी के पूरे दिन आप अपने किसी भी नए कार्य का आरम्भ कर सकते हैं ये एक स्वयं सिद्ध और श्रेष्ठ मुहूर्त होता।

★मित्रो, बसंत पंचमी भारतीय संस्कृति में एक बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाने वाला त्यौहार है, जिसमे हमारी परम्परा, भौगौलिक परिवर्तन, सामाजिककार्य तथा आध्यात्मिक पक्ष सभी का सम्मिश्रण है,

★भारतिय हिन्दू पंचांग के अनुसार, माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को बसंत पंचमी का त्यौहार मनाया जाता है।

★वास्तव में भारतीय गणना के अनुसार वर्ष भर में पड़ने वाली छः ऋतुओं (बसंत, ग्रीष्म, वर्षा, शरद, हेमंत, शिशिर) में बसंत को ऋतुराज अर्थात सभी ऋतुओं का राजा माना गया है, और बसंत पंचमी के दिन को बसंत ऋतु का आगमन माना जाता है, इसलिए बसंतपंचमी ऋतू परिवर्तन का दिन व मौसम का सिंधकाल भी है। ★इस दिन से प्राकृतिक का सौन्दर्य निखारना शुरू हो जाता है पेड़ों पर पुरानी जाकर, नयी पत्तिया कोपले और कालिया खिलना शुरू हो जाती हैं पूरी प्रकृति व सजीव प्राणी एक नवीन उत्साह व ऊर्जा से भर उठती है।

★इसके अलावा बसंत पंचमी को विशेष रूप से सरस्वती जयंती के रूप में मनाया जाता है, यह माता सरस्वती का प्राकट्योत्सव भी है, इस लिए इस दिन विशेष रूप से माता सरस्वती की पूजा उपासना कर उनसे विद्या बुद्धि प्राप्ति की कामना की जाती है।

इसी लिए विद्यार्थियों के लिए बसंत पंचमी का त्यौहार बहुत विशेष होता है,.बसंत पंचमी का त्यौहार बहुत ऊर्जामय ढंग से और विभिन्न प्रकार से पूरे भारत वर्ष में मनाया जाता है इस दिन पीले वस्त्र पहनने और खिचड़ी बनाने और बाटने की प्रथा भी प्रचलित है।

इस दिन बसंत ऋतु के आगमन होने से आकाश में हजारो रंगीन पतंगे उड़ने की परम्परा भी बहुत दीर्घकाल से प्रचलन में है। माता सरस्वती जी रथयात्रा भी सुरजकुंड मंदिर से निकाली जाती है।

★इसके अलावा बसंत पंचमी के दिन का एक और विशेष महत्व भी है बसंत पंचमी को मुहूर्तशास्त्र के अनुसार एक स्वयं सिद्ध मुहूर्त और अनसूझ साया भी माना गया है, इस दिन कोई भी शुभ मंगल कार्य करने के लिए पंचांग शुद्धि की आवश्यकता नहीं होती, बस राहू काल में शुभ कार्य न करें, इस दिन नींव पूजन, गृह प्रवेश, वाहन खरीदना, व्यापार आरम्भ करना, सगाई और विवाह आदि मंगल कार्य किये जा सकते हैं।

■आप मिठ्ठे पीले चावल व पुलाव खाये खिलाये, भगवान का भोग भी जरूर लगाये, भाव में ही ईश्वर बसते है, सभी को डॉ दिपक सिंह की तरफ से माता सरस्वती उत्पन्न दिवस और बसंतपंचमी की शुभ व मंगलमय कामनाये ।

वर दे वीणावादिनी वर दे

*वर दे वीणावादिनी वर दे ,

प्रिय स्वतंत्र रव अमिय मन्त्र नव भारत में भर दे*……….

*वीणावादिनी वर दे…..

विद्या, वाणी और संगीत की देवी माँ सरस्वती के जन्मदिवस *’वसन्त पंचमी’* पर हार्दिक शुभकामनाएं…..

सरस्वती वंदना

!! सरस्वती वंदना !!

हे हंस वाहिनी ज्ञान दायिनी

अम्ब विमल मति दे , अम्ब विमल मति दे ……….

जग सिर मौर बनाएँ भारत

वह बल विक्रम दे ,  अम्ब  विमल  मति  दे ………..

साहस शील ह्रदय में भर दे ,

जीवन त्याग तपोमय कर दे

संयम सत्य स्नेह का वर दे , स्वाभिमान भर दे

हे हंस वाहिनी ज्ञान दायिनी ,

अम्ब विमल मति दे , अम्ब विमल मति दे ……….

लव-कुश ,  ध्रुव  प्रहलाद  बने ,

हम मानवता का त्राश हरे हम ,

सीता सावित्री दुर्गा माँ फिर घर-घर भर दे

हे हंस वाहिनी ज्ञान दायिनी ,

अम्ब विमल मति दे , अम्ब विमल मति दे ………..

सुख एवं समृद्धि का बसंत आपके जीवन में सदैव बना रहे!

*बसंत पंचमी* की हार्दिक शुभकामनाएं

सु-प्रभात

जय श्री राम

माझं काय चुकलं?

*माझं काय चुकलं?*

(गैरसमज)

बायको च्या मैत्रिणीने तिळगुळ म्हणून काटेरी हलवा दिला आणि म्हणाली “तिळगुळ घ्या गोडगोड बोला….”

मी विचारलं : फक्त ह्यानेच तोंड गोड करणार का? …..

.

तर ती चक्क “इश्श, काहीतरीच काय!” असे म्हणून लाजून निघुन गेली आणि

बायको कडाडली

“मी काय मेले का बाहेर जाऊन तोंड गाेड करायला सांगताय ते?”

.

.

.

..

आता मला कळत नाही,

जर मला *तिळाचा लाडू* पाहिजे होता… तर तिला लाजायला आणि हिला तडकायला काय झाले?

Previous Older Entries

Archives

%d bloggers like this: