Advertisements

झाड़ू

*झाड़ू* भी अजीब है।​

​चुनाव चिन्ह *आप* का है।​

​लगा *मोदी* जी रहे हैं।​

​और साफ*काँग्रेस* हो रही है।​

Advertisements

अयं होलीमहोत्सवः

अयं होलीमहोत्सवः भवत्कृते भवत्परिवारकृते च क्षेमस्थैर्य आयुः आरोग्य ऐश्वर्य अभिवृद्घिकारकः भवतु अपि च श्रीसद्गुरुकृपाप्रसादेन सकलदुःखनिवृत्तिः आध्यात्मिक प्रगतिः श्रीभगवत्प्राप्तिः च भवतु इति||

।। होलिकाया: हार्दिक शुभाशयाः ।।

॥ शुभ होली

कल पोहा बनाते टाइम

कल पोहा बनाते टाइम

उसपर हरा धनिया डाला तो मालूम है क्या हुआ???

क्या हुआ ?

पोहा कड़ाई में डांस करने लगा

और बोला

“हम पे ये किसने हरा रंग डाला

मार डाला, हाए मार डाला !!!!!”

HAPPY HOLI IN ADVANCE

Udta Punjab

2016 – *Udta Punjab*

2018 – *Udta Punjab National Bank*

Propose day special

Propose day special

मुद्दतों के इन्तज़ार के बाद बडी हिम्मत से मैने उसे बताया,

मुझे *’आप ‘* पसंद हैं ।

.

वो बडी नासमझ निकली,

और बोली,

मुझे *’ भाजपा ‘* ।

Nirav Modi

Bank me paise rakkho toh “Nirav Modi” ka darr,

Aur IPL mein satta kare toh saala “Lalit Modi” ka Darr

Ghar pe paise rakkho toh “Narendra Modi” ka darr…

जो अमृत पीते हैं उन्हें देव कहते हैं

*जो अमृत पीते हैं उन्हें देव कहते हैं,*

*और जो विष पीते हैं उन्हें देवों के देव “महादेव” कहते हैं … !!!*

*♨ ॐ नमः शिवाय ♨*

,-“””-,

| == |

| @ |

(‘‘‘””””””””””)===,

‘>——<‘‘‘‘‘‘‘

*भोलेनाथ आपकी सारी मनोकामनाएं पूर्ण करे…..*

*⛳ॐ नमः शिवाय⛳*

*🙏 आप को और आप के परिवार को महाशिव रात्रि की हार्दिक हार्दिक बधाई एवं 🙏🏻शुभकामनाए🙏👏🙏

मैं शिव हूँ

विभत्स हूँ… विभोर हूँ…

मैं समाधी में ही चूर हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

घनघोर अँधेरा ओढ़ के…

मैं जन जीवन से दूर हूँ…

श्मशान में हूँ नाचता…

मैं मृत्यु का ग़ुरूर हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

साम – दाम तुम्हीं रखो…

मैं दंड में सम्पूर्ण हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

चीर आया चरम में…

मार आया “मैं” को मैं…

“मैं” , “मैं” नहीं…

”मैं” भय नहीं…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

जो सिर्फ तू है सोचता…

केवल वो मैं नहीं…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

मैं काल का कपाल हूँ…

मैं मूल की चिंघाड़ हूँ…

मैं मग्न…मैं चिर मग्न हूँ…

मैं एकांत में उजाड़ हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

मैं आग हूँ…

मैं राख हूँ…

मैं पवित्र राष हूँ…

मैं पंख हूँ…

मैं श्वाश हूँ…

मैं ही हाड़ माँस हूँ…

मैं ही आदि अनन्त हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

मुझमें कोई छल नहीं…

तेरा कोई कल नहीं…

मौत के ही गर्भ में…ज़िंदगी के पास हूँ…

अंधकार का आकार हूँ…

प्रकाश का मैं प्रकार हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

मैं कल नहीं मैं काल हूँ…

वैकुण्ठ या पाताल नहीं…

मैं मोक्ष का भी सार हूँ…

मैं पवित्र रोष हूँ…

मैं ही तो अघोर हूँ…

*मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।* *मैं शिव हूँ।*

बसंत पंचमी

[]◆बसंत पंचमी का महत्व◆[]

★विशेष रूप से सभी विद्यार्थयों को इस दिन माता सरस्वती जी की पूजा अर्चना अवश्य करनी चाहिए, कल बसंत पंचमी के पूरे दिन आप अपने किसी भी नए कार्य का आरम्भ कर सकते हैं ये एक स्वयं सिद्ध और श्रेष्ठ मुहूर्त होता।

★मित्रो, बसंत पंचमी भारतीय संस्कृति में एक बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाने वाला त्यौहार है, जिसमे हमारी परम्परा, भौगौलिक परिवर्तन, सामाजिककार्य तथा आध्यात्मिक पक्ष सभी का सम्मिश्रण है,

★भारतिय हिन्दू पंचांग के अनुसार, माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को बसंत पंचमी का त्यौहार मनाया जाता है।

★वास्तव में भारतीय गणना के अनुसार वर्ष भर में पड़ने वाली छः ऋतुओं (बसंत, ग्रीष्म, वर्षा, शरद, हेमंत, शिशिर) में बसंत को ऋतुराज अर्थात सभी ऋतुओं का राजा माना गया है, और बसंत पंचमी के दिन को बसंत ऋतु का आगमन माना जाता है, इसलिए बसंतपंचमी ऋतू परिवर्तन का दिन व मौसम का सिंधकाल भी है। ★इस दिन से प्राकृतिक का सौन्दर्य निखारना शुरू हो जाता है पेड़ों पर पुरानी जाकर, नयी पत्तिया कोपले और कालिया खिलना शुरू हो जाती हैं पूरी प्रकृति व सजीव प्राणी एक नवीन उत्साह व ऊर्जा से भर उठती है।

★इसके अलावा बसंत पंचमी को विशेष रूप से सरस्वती जयंती के रूप में मनाया जाता है, यह माता सरस्वती का प्राकट्योत्सव भी है, इस लिए इस दिन विशेष रूप से माता सरस्वती की पूजा उपासना कर उनसे विद्या बुद्धि प्राप्ति की कामना की जाती है।

इसी लिए विद्यार्थियों के लिए बसंत पंचमी का त्यौहार बहुत विशेष होता है,.बसंत पंचमी का त्यौहार बहुत ऊर्जामय ढंग से और विभिन्न प्रकार से पूरे भारत वर्ष में मनाया जाता है इस दिन पीले वस्त्र पहनने और खिचड़ी बनाने और बाटने की प्रथा भी प्रचलित है।

इस दिन बसंत ऋतु के आगमन होने से आकाश में हजारो रंगीन पतंगे उड़ने की परम्परा भी बहुत दीर्घकाल से प्रचलन में है। माता सरस्वती जी रथयात्रा भी सुरजकुंड मंदिर से निकाली जाती है।

★इसके अलावा बसंत पंचमी के दिन का एक और विशेष महत्व भी है बसंत पंचमी को मुहूर्तशास्त्र के अनुसार एक स्वयं सिद्ध मुहूर्त और अनसूझ साया भी माना गया है, इस दिन कोई भी शुभ मंगल कार्य करने के लिए पंचांग शुद्धि की आवश्यकता नहीं होती, बस राहू काल में शुभ कार्य न करें, इस दिन नींव पूजन, गृह प्रवेश, वाहन खरीदना, व्यापार आरम्भ करना, सगाई और विवाह आदि मंगल कार्य किये जा सकते हैं।

■आप मिठ्ठे पीले चावल व पुलाव खाये खिलाये, भगवान का भोग भी जरूर लगाये, भाव में ही ईश्वर बसते है, सभी को डॉ दिपक सिंह की तरफ से माता सरस्वती उत्पन्न दिवस और बसंतपंचमी की शुभ व मंगलमय कामनाये ।

वर दे वीणावादिनी वर दे

*वर दे वीणावादिनी वर दे ,

प्रिय स्वतंत्र रव अमिय मन्त्र नव भारत में भर दे*……….

*वीणावादिनी वर दे…..

विद्या, वाणी और संगीत की देवी माँ सरस्वती के जन्मदिवस *’वसन्त पंचमी’* पर हार्दिक शुभकामनाएं…..

सरस्वती वंदना

!! सरस्वती वंदना !!

हे हंस वाहिनी ज्ञान दायिनी

अम्ब विमल मति दे , अम्ब विमल मति दे ……….

जग सिर मौर बनाएँ भारत

वह बल विक्रम दे ,  अम्ब  विमल  मति  दे ………..

साहस शील ह्रदय में भर दे ,

जीवन त्याग तपोमय कर दे

संयम सत्य स्नेह का वर दे , स्वाभिमान भर दे

हे हंस वाहिनी ज्ञान दायिनी ,

अम्ब विमल मति दे , अम्ब विमल मति दे ……….

लव-कुश ,  ध्रुव  प्रहलाद  बने ,

हम मानवता का त्राश हरे हम ,

सीता सावित्री दुर्गा माँ फिर घर-घर भर दे

हे हंस वाहिनी ज्ञान दायिनी ,

अम्ब विमल मति दे , अम्ब विमल मति दे ………..

सुख एवं समृद्धि का बसंत आपके जीवन में सदैव बना रहे!

*बसंत पंचमी* की हार्दिक शुभकामनाएं

सु-प्रभात

जय श्री राम

भाई विराट कोहली

भाई विराट कोहली ….

सब तो ठीक है लेकिन कहीं इटली में शादी करने से बच्चा मंदबुद्धि ना पैदा हो !!

Happy married life

शादी शुदा लोग जरूर पढ़े आनन्द आएगा

कॉलेज में Happy married life पर

एक कार्यक्रम हो रहा था,

जिसमे कुछ शादीशुदा

जोडे हिस्सा ले रहे थे।

जिस समय प्रोफेसर मंच पर आए

उन्होने नोट किया कि सभी

पति- पत्नी शादी पर

जोक कर हँस रहे थे…

ये देख कर प्रोफेसर ने कहा

कि चलो पहले एक Game खेलते है…

उसके बाद अपने विषय पर बातें करेंगे।

सभी खुश हो गए

और कहा कोनसा Game ?

प्रोफ़ेसर ने एक married

लड़की को खड़ा किया

और कहा कि तुम ब्लेक बोर्ड पे

ऐसे 25- 30 लोगों के नाम लिखो

जो तुम्हे सबसे अधिक प्यारे हों

लड़की ने पहले तो अपने परिवार के

लोगो के नाम लिखे

फिर अपने सगे सम्बन्धी,

दोस्तों,पडोसी और

सहकर्मियों के नाम लिख दिए…

अब प्रोफ़ेसर ने उसमे से

कोई भी कम पसंद वाले

5 नाम मिटाने को कहा…

लड़की ने अपने

सह कर्मियों के नाम मिटा दिए..

प्रोफ़ेसर ने और 5 नाम मिटाने को कहा…

लड़की ने थोडा सोच कर

अपने पड़ोसियो के नाम मिटा दिए…

अब प्रोफ़ेसर ने

और 10 नाम मिटाने को कहा…

लड़की ने अपने सगे सम्बन्धी

और दोस्तों के नाम मिटा दिए…

अब बोर्ड पर सिर्फ 4 नाम बचे थे

जो उसके मम्मी- पापा,

पति और बच्चे का नाम था..

अब प्रोफ़ेसर ने कहा इसमें से

और 2 नाम मिटा दो…

लड़की असमंजस में पड गयी

बहुत सोचने के बाद

बहुत दुखी होते हुए उसने

अपने मम्मी- पापा का

नाम मिटा दिया…

सभी लोग स्तब्ध और शांत थे

क्योकि वो जानते थे

कि ये गेम सिर्फ वो

लड़की ही नहीं खेल रही थी

उनके दिमाग में भी

यही सब चल रहा था।

अब सिर्फ 2 ही नाम बचे थे…

पति और बेटे का…

प्रोफ़ेसर ने कहा

और एक नाम मिटा दो…

लड़की अब सहमी सी रह गयी…

बहुत सोचने के बाद रोते हुए

अपने बेटे का नाम काट दिया…

प्रोफ़ेसर ने उस लड़की से कहा

तुम अपनी जगह पर जाकर बैठ जाओ…

और सभी की तरफ गौर से देखा…

और पूछा-

क्या कोई बता सकता है

कि ऐसा क्यों हुआ कि सिर्फ

पति का ही नाम

बोर्ड पर रह गया।

कोई जवाब नहीं दे पाया…

सभी मुँह लटका कर बैठे थे…

प्रोफ़ेसर ने फिर

उस लड़की को खड़ा किया

और कहा…

ऐसा क्यों !

जिसने तुम्हे जन्म दिया

और पाल पोस कर

इतना बड़ा किया

उनका नाम तुमने मिटा दिया…

और तो और तुमने अपनी

कोख से जिस बच्चे को जन्म दिया

उसका भी नाम तुमने मिटा दिया ?

लड़की ने जवाब दिया…….

कि अब मम्मी- पापा बूढ़े हो चुके हैं,

कुछ साल के बाद वो मुझे

और इस दुनिया को छोड़ के

चले जायेंगे ……

मेरा बेटा जब बड़ा हो जायेगा

तो जरूरी नहीं कि वो

शादी के बाद मेरे साथ ही रहे।

लेकिन मेरे पति जब तक मेरी

जान में जान है

तब तक मेरा आधा शरीर बनके

मेरा साथ निभायेंगे

इस लिए मेरे लिए

सबसे अजीज मेरे पति हैं..

प्रोफ़ेसर और बाकी स्टूडेंट ने

तालियों की गूंज से

लड़की को सलामी दी…

प्रोफ़ेसर ने कहा

तुमने बिलकुल सही कहा

कि तुम और सभी के बिना

रह सकती हो

पर अपने आधे अंग अर्थात

अपने पति के बिना नहीं रह सकती l

मजाक मस्ती तक तो ठीक है

पर हर इंसान का

अपना जीवन साथी ही

उसको सब से ज्यादा

अजीज होता है…

ये सचमुच सच है for all husband and wife कभी मत भूलना…..

जिन्दगी के साथ भी ,जिन्दगी के बाद भी

बहुत ही सुन्दर कहानी है । अगर दिल को छू जाए तो आगे जरूर भेजियेगा ।

आज धनतेरस का पवित्र महापर्व है

आज धनतेरस का पवित्र महापर्व है | जिसे ब्रह्माण्ड के पहले चिकित्सक “धन्वन्तरी” की याद में मनाया जाता है क्योंकि, वस्तुतः स्वास्थ्य ही सबसे अमूल्य धन है |

HEALTH IS REAL WEALTH.

आप के अच्छे स्वास्थ्य एवं ढेर सारे धन प्राप्ति की कामना के साथ आप को धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएँ देते है।

जो कोई भी सज्जन

जो कोई भी सज्जन (???) अपनी पत्नी को दीपावली की गिफ्ट दे रहा है ।

या पकवान बनाने में या घर साफ करने में मदद कर रहा हो।

उससे विनती है कि उसकी Photo, FB या Whatsapp पर डाल के दुसरो की जीवन में जहर ना घोले।

धन्यवाद

हम भी बहुत से राज जानते है आपके। ध्यान रखे।

सोचा रद्दीवाले से पूछुं

*सोचा रद्दीवाले से पूछुं कि… शिकायतें”*

*कितने में खरीदेगा………??*

भण्डार है शिकायतों का…

पुराने रद्दी अखबारों से

कहीं ज्यादा,

दिलों में भरी पड़ी हैं…

*आप भी मेरी माने तो…*

*इन शिकायतों को*

*आज बेच ही दीजिये..!!*

दीपावली की सफाई सा

चमक उठेगा…

आपके *”मन का घर”…!!*

🌹. शुभ दिपावली🌹

HAPPY DIWALI

Diye me jyoti,
Jyoti me prakash,
Pulkit hai dharti,
Jagmag aakash,Diyon ki katar kahe
bar bar viraje
MAA LAXMI AAPKE DWAR . . . .
¤HAPPY¤ ¤DIWALI¤

WISH U A VERY HAPPY “DEEPAWALI”

WISH U A VERY HAPPY “DEEPAWALI”
.
.
abhi kyo?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
ek raaz ki baat h tum kisi ko btana nhi
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
?
badme diwali ko sms free nhi honge.

दिपावली में दिया तो जला सकते है ना?

मुझे यह पूछना था कि……

दिपावली में दिया तो जला सकते है ना…??

ग्लोबलवार्मिंग कातो कोई प्रॉब्लम नहीं है….??

भगवान मैं पापी हूं!

भक्त- भगवान मैं पापी हूं!
मुझे दर्द दो,

दुख दो,

मुझे बर्बाद कर दो,

परेशानी दो,

मेरे पीछे भूत लगा दो!
भगवान- अबे एक लाइन में बोल ना

कि बीवी चाहिए !

Previous Older Entries

%d bloggers like this: